माँ पर दो लाइन शायरी - माँ के एहसास की परछाई,मेरे साथ है हर पल.फिर मै यह कैसे कह दूँ कि,मेरे पास मेरी माँ नही..!
माँ पर दो लाइन शायरी - ज़िंदगी में बस इतनी दुआ मांग लेना मेरे दोस्तों, की कोई घर बिना माँ के ना हो और कोई माँ बिना घर के…!
माँ पर दो लाइन शायरी - माँ के एहसास की परछाई,मेरे साथ है हर पल.फिर मै यह कैसे कह दूँ कि,मेरे पास मेरी माँ नही..!
माँ पर दो लाइन शायरी - ज़िंदगी में बस इतनी दुआ मांग लेना मेरे दोस्तों, की कोई घर बिना माँ के ना हो और कोई माँ बिना घर के…!
माँ पर दो लाइन शायरी -  गुल को गुलिस्तॉं से, प्यार न होता तो आज ये प्यारा सा ,संसार न होता देश के अमर शहीदों में,वो जज्बा न होता, तो भारत आजाद और ये बहार न होता।
माँ पर दो लाइन शायरी - तुम्हारी शायरी बड़ी है फाइरी, दिल करता है जल जाए शायरी वाली डायरी..!!
माँ पर दो लाइन शायरी - लड़का हूँ कोई पेंसिल नहीं जो सभी पे लाइन मारूँगा, मैं सिर्फ दो लोगों से प्यार करता हूँ… एक तो जिन्होंने मुझे जन्म दिया है, और दूसरी वो पगली जिसने मेरे लिए जन्म लिया है..!
माँ पर दो लाइन शायरी - एक लड़की‬ आकर बोलती है, मुझे आपसे मिलना है, मैने बोला ये ले पगली टोकन और लाइन मे लगजा….!!