Motivational Poetry & Poem in Hindi

Motivational Poetry in Hindi

Motivation is always needed for successful life. Through motivational poetry, You can inspire anyone and encourage to move forward in life. We have brought you a wonderful collection of Motivational Poetry in Hindi.

अगर कोई सुन्दर और समतल रास्ता दिखाई दे ..तो उस पर क़दम रखने और चलने से पहले ..पता करें कि वो रास्ता कहाँ जाता है ….!!

लेकिन अगर मंज़िल ख़ूबसूरत है ..तो इस बात की चिंता मत करो कि रास्ता कैसा है..क्योंकि मंज़िल महत्वपूर्ण है – रास्ता नहीं…!!

तिलोक चंद महरुम 

मिल जाएंगे बहुत से विकल्प बिखरने के लिए..संकल्प मगर एक ही काफी है संवरने के लिए….!!

सच है, विपत्ति जब आती है,कायर को ही दहलाती है,शूरमा नहीं विचलित होते,क्षण एक नहीं धीरज खोते, विघ्नों को गले लगाते हैं,काँटों में राह बनाते हैं…!!

रामधारी सिंह “दिनकर”

ख़ुद में रह कर, वक़्त बिताओ तो अच्छा है, ख़ुद का परिचय, ख़ुद से कराओ तो अच्छा है..!!

इस दुनिया की भीड़ में,चलने से तो बेहतर, ख़ुद के साथ में, घूमने जाओ तो अच्छा है..!!

अपने घर के रौशन,दीपक देख लिए अब, ख़ुद के अन्दर, दीप जलाओ तो अच्छा है..!!

तेरी-मेरी इसकी-उसकी,छोड़ो भी अब,ख़ुद से ख़ुद की ,शक्ल मिलाओ तो अच्छा है..!!

जिस्म को महकाने में, सारी उम्र काट ली, रूह को अब अपनी, महकाओ तो अच्छा है..!!

दुनियाभर में घूम, लिए हो जी भरके अब, वापस ख़ुद में, लौट के आओ तो अच्छा है..!

~सुरेन्द्र चतुर्वेदी

हौसले बुलंद कर रास्तों पे चल दे… तुझे तेरा मुकाम मिल जायेगा, बढ़ कर अकेला तू पहल कर देखकर तुझको…काफिला खुद बन जायेगा…!!

परिंदे रुक मत तुझमे जान बाकी है,मन्जिल दूर है, बहुत उड़ान बाकी है।आज या कल मुट्ठी में होगी दुनियाँ,लक्ष्य पर अगर तेरा ध्यान बाकी है।

यूँ ही नहीं मिलती रब की मेहरबानी,एक से बढ़कर एक इम्तेहान बाकी है।जिंदगी की जंग में है हौसला जरुरी,जीतने के लिए सारा जहान बाकी है।

मंजिल मिले ना मिले   ये तो मुकदर की बात है! हम कोशिश भी ना करे   ये तो गलत बात है… जिन्दगी जख्मो से भरी है, वक्त को मरहम बनाना सीख लो,हारना तो है एक दिन मौत से,  फिलहाल  जिन्दगी जीना सीख लो..!!

ज़मीर ज़िंदा रख,कबीर ज़िंदा रख..सुल्तान भी बन जाए तो,दिल में फ़क़ीर ज़िंदा रख..हौसले के तरकश में,कोशिश का वो तीर ज़िंदा रख..

हार जा चाहे जिन्दगी मे सब कुछ,मगर फिर से जीतने की वो उम्मीद जिन्दा रख..बहना हो तो बेशक बह जा,मगर सागर मे मिलने की वो चाह जिन्दा रख…..मिटता हो तो आज मिट जा इंसान,मगर मिटने के बाद भी इंसानियत जिन्दा रख..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *