- तेरी याद ने मेरा बुरा हाल कर दिया, तन्हा मेरा जीना मुहाल कर दिया. सोचा जो अब तुम्हे याद न करुँ, तो दिल ने धडकने से इन्कार कर दिया..
  - बेशर्म हो गयी हैं ये ख्वाहिशें मेरी, मैं अब बिना किसी बहाने के तुम्हे याद करने लगा हूँ..
  - मै रात भर सोचता मगर फैंसला न कर सका, तू याद आ रही है या मैं याद कर रहा हूँ..
  - आप तो दे रहे थे धोखा और, हमने जानकर भी कभी आपको बेवफा न समझा..
  - आँख खुलते ही याद आ जाता हैं तेरा चेहरा, दिन की ये पहली खुशी भी कमाल होती है..
  - आज आई बारिश तो याद आया वो जमाना, वो तेरा छत पे रहना और मेरा सडको पे नहाना..
  - गमे-दुनिया ने हमें जब कभी नाशाद किया ऐ गमे-दोस्त तुझे हमने बहुत याद किया..
  - कुछ नवाब दोस्त हैं हमारे, जिनको परेशान न करो तो वो याद ही किया नहीं करते..
  - यादों की मेज़ पर कोई तस्वीर छोड़ दो, कब से मेरे ज़हन का कमरा उदास है..
  - भीगते हैं जिस तरह से तेरी यादों में डूब कर, इस बारिश में कहाँ वो कशिश तेरे खयालों जैसी..
  - कोई पढ़ न ले उस बेवफा की यादों को, इसलिए पानी में भी आग लगा कर आया हूँ....
  - खुद भी रोता है, मुझे भी रुला के जाता है, ये बारिश का मौसम, उसकी याद दिला के जाता है..
  - बाज़ार के रंगों से मुझे रंगने की ज़रूरत नही, तेरी याद आते ही ये चेहरा गुलाबी हो जाता है..
  - बेशक तू बदल ले अपनी मोहब्बत लेकिन, ये याद रखना, तेरे हर झूठ को सच मेरे सिवा कोई नही समझ सकता..
  - जो गुजरे इश्क में सावन सुहाने, याद आते हैं, तेरी जुल्फों के मुझको शामियाने याद आते हैं..
  - बड़ी दिलचस्प है..तेरी यादो का सिलसिला, कभी एक पल कभी पल-पल कभी हर पल..
  - चलता था कभी, हाथ मेरा थाम के जिस पर, करता है बहुत याद, वो रास्ता उसे कहना..
  - किसी ने पूछा कौन याद आता है, अक्सर तन्हाई में, हमने कहा कुछ पुराने रास्ते, खुलती ज़ुल्फे और बस दो आँखें..
  - दर्द में हम गाते है, लोगो को अपने नगमे हम सुनाते है, हम लिखते है तुम्हारी याद में और लोग हमे शायर कह जाते है..
  - बरसात की भीगी रातों में फिर कोई सुहानी याद आई, कुछ अपना ज़माना याद आया कुछ उनकी जवानी याद आई..
  - मेरे “शब्दों” को इतने ध्यान से ना पढ़ा करो दोस्तों, कुछ याद रह गया तो मुझे भूल नहीं पाओगे ..
  - वो बोली क्या अब भी हमारी याद आती है, हमने भी हंसकर बोला अपनी बर्बादी को कौन भूल सकता है..
  - मजबूर नही करेंगे तुझे वादे निभानें के लिए, बस एक बार आ जा, अपनी यादें वापस ले जाने के लिए..
  - ज़माने के सवालों को मैं हस के टाल दूँ फराज़, लेकिन नमी आंखों की कहती है, मुझे तुम याद आते हो..
  - महसूस कर रहें हैं तेरी लापरवाहियाँ कुछ दिनों से, याद रखना अगर हम बदल गये तो, मनाना तेरे बस की बात ना होगी..
  - ये रात, उसकी यादे और नींद का बोझ, अगर हम मोहब्बत ना करते तो कब के सो गये होते....
  - वहा के लडके मुझे देख कर गाना गाते हैं, तुम आये तो आया मुझे याद गयी में आज चाँद निकला..
  - बादलों से कह दो, जरा सोच समझ के बरसे, अगर हमें उसकी याद आ गई, तो मुकाबला बराबरी का होगा..
  - ना चाहकर भी मेरे लब पर ये फ़रियाद आ जाती है, ऐ चाँद सामने न आ किसी की याद आ जाती है..
  - ऐ दोस्त जब भी तू उदास होगा, मेरा ख्याल तेरे आस-पास होगा, दिल की गहराईयों से जब भी करोगे याद हमें, तुम्हें. हमारे करीब होने का एहसास होगा..
  - आज फिर तेरी याद आई बारिश को देख कर दिल पे ज़ोर न रहा अपनी बेबसी को देख कर रोये इस क़दर तेरी याद में के बारिश भी थम गयी मेरी बारिश देख कर..
  - बारिश और मोहब्बत दोनो ही य़ादगार होते है. फर्क सिर्फ़ इतना होता है. बारिश से ज़िस्मं भीगता है, और मोहब्बत से आँखे..
  - कब तक याद करूँ मैं उसको कब तक अश्क़ बहाऊँ, यारो अब तो रब से दुआ करो मैं उसको भूल ही जाऊँ..
  - नींद को आज भी शिकवा है मेरी आँखों से, मैंने आने न दिया उसको कभी तेरी याद से पहले..
  - अब कुछ और नही उगता, तेरी यादों के सिवा, अब मेरे दिल की ज़मीन पर, बस तेरी ज़मींदारी है..
  - सोचता हूँ की, कभी भी अब तुझें याद नहीं करूँगा, फिर सोचता हूँ ये फ़र्क़ तो रहने दो हम दोनों में..
  - याद आते हैं तो कुछ भी नहीं करने देते, अच्छे लोगों की यही बात बहुत बुरी लगती है..
  - दोस्ती का शुक्रिया कुछ इस तरह अदा करू, आप भूल भी जाओ तो मे हर पल याद करू..
  - इस मौसम में नहीं करेंगे याद तुझे यह सोचा है हमने, पर फिर सोचा की बारिश को कैसे रोक पाएंगे हम..
  - कहीं फिसल न जाऊं तेरे खायलो में चलते चलते. अपनी यादों को रोको. मेरे शहर में बारिश हो रही है..
  - मुझको क्या हक, मैं किसी को मतलबी कहूँ, मै खुद ही ख़ुदा को, मुसीबत में याद करता हूँ..
  - चली आती है तेरी याद रातो में अक्सर, तुझे हो ना हो तेरी यादो को जरूर मोहब्बत है मुझसे..
  - याद रखते हैं हम आज भी उन्हें पहले की तरह, कौन कहता है फासले मोहब्बत की याद मिटा देते हैं..
  - मरना होता तो कबके मर गए होते, तेरी यादों में हर रोज़ मरने का मज़ा ही कुछ अलग है..
  - काश तुम भी हो जाओ, तुम्हारी यादो की तरह, न वक़्त देखो न बहाना, बस चली आओ..
  - तेरी यादो को पसन्द आ गई है मेरी आँखों की नमी, हँसना भी चाहूँ तो रूला देती है तेरी कमी..
  - उसे फुरसत नहीं मिलती ज़रा सा याद करने की उसे कह दो हम उसकी याद में फुरसत से बैठे हैं..
  - कुछ तो बात है तेरी फितरत में ऐ दोस्त, वरना तुझ को याद करने की खता हम बार-बार न करते..
  - इक तिरी याद का आलम कि बदलता ही नहीं वरना वक़्त आने पे हर चीज़ बदल जाती है..
  - जागना भी कबूल हैं तेरी यादों में रात भर, तेरे एहसासों में जो सुकून है वो नींद में कहाँ ..
  - हज़ारों काम है मुझे मसरूफ रखते हैं, मगर वो शख्स ऐसा है के फिर भी याद आता है..
  - कुछ मीठी सी ठंडक है आज इन हवाओं में, शायद तेरी यादों से भरा दराज़ खुला रह गया है..
  - कितने नादाँ ह ये मेरी आँख के आँसु, जब भी तेरी याद आती है इनका भी घर में मन नही लगता..
  - सारी सारी रात सितारों से उसका ज़िक्र होता है, और उसको ये गिला है के हम याद नहीं करते..
  - मुझे भी सिखा दो भूल जाने का हुनर, मैं थक गया हूँ हर लम्हा हर सांस तुम्हें याद करते करते..
  - बड़ी गुस्ताख है तेरी यादें इन्हें तमीज सिखा दो, दस्तक भी नहीं देती और दिल में उतर आती हैं..
  - हम समझते थे के अब यादो की किश्ते चुक चुकीं, रात तेरी याद ने फिर से तकाजा कर दिया..
  - तुम से मुमकिन हो तो फिर रोक दो साँसें मेरी, दिल जो धड़केगा, तो फिर याद तो तुम आओगे..
  - होठों पे हंसी रुख पे हया याद रहेगी, ऐ हुस्न तेरी शोख अदा याद रहेगी..
  - ना जाने लोग, खुद चले जाने के बाद, अपनी यादों को, क्यूँ छोड़ जाते है..
  - यादें बनकर जो रहते हो साथ मेरे, तेरे इतने अहसान का सौ बार शुक्रिया..
  - याद करने की हमने हद कर दी मगर, भूल जाने में तुम भी कमाल रखते हो..
  - जिनका मिलना नहीं होता किस्मत में, उनकी यादें कसम से कमाल की होती हैं..
  - सब के होते हुये भी तन्हाई मिलती है, यादो में भी गम की परछाई मिलती है..
  - जब जब आता है यह बरसात का मौसम, तेरी याद होती है साथ हरदम..
  - तन्हाई की सरहदे और भीगी पलके, हम लुट जाते है रोज तुम्हे याद करके..
  - तू याद रख,या ना रख, तू याद है,ये याद रख..
  - कुछ दिन तो तेरी यादें वापस ले ले, मैं कई दिनों से सोया नहीं..
  - सामने ना हो तो तरसती हैं आँखें, याद में तेरी बरसती हैं आँखें..
  - आपकी नशीली यादों में डूबकर, हमने इश्क की गहराई को समझा..
  - तेरी याद क्यूँ आती है ये मालुम नहीं, लेकिन जब भी आती है अच्छा लगता है..
  - ओस की बूँद ऐसी गिरी है ज़मीन पर, मानो चाँद भी रोया हो उनकी याद में..
  - कल उसकी याद पूरी रात आती रही, हम जागे पूरी दुनिया सोती रही..
  - इश्क के सहारे जिया नहीं करते, गम के प्यालों को पिया नहीं करते..
  - महफिल मैं कुछ तो सुनाना पडता है, ग़म छुपाकर मुस्कुराना पडता है..
  - वफ़ा का नाम लेने से हमें एक बेवफा की याद आती है..
  - तेरी याद से ही शुरू होती है मेरी हर सुबह..
  - कभी उनके हम भी थे दोस्त, आज कल उन्हे याद दिलाना पडता है..
  - आँखों ने महसूस किया उस हवा को, जो तुम्हें छु कर हमारे पास आई..
  - दुश्मनी जम कर करो मगर इतना याद रहे, जब भी फिर दोस्त बन जाये, शर्मिन्दा न हो..
  - तुम ने किया न याद कभी भूल कर हमें, हम ने तुम्हारी याद में सब कुछ भुला दिया..
  - जिसे याद करने से होंठों पर मुस्कुराहट आ जाए, एक ऐसा खूबसूरत ख़याल हो तुम..
  - कभी ग़म तो कभी तन्हाई मार गयी, कभी याद आ कर उनकी जुदाई मार गयी..
  - आसमान में बिजली पूरी रात होती रही, बस एक बारिश थी जो मेरे साथ रोती रही..
  - मेरे लिए ना सही, इनके लिए ही आ जाया करो, तुमसे बेपनाह मोहब्बत करती हैं ये आँखें..
  - मुझको क्या हक, मैं किसी को मतलबी कहूँ, मै खुद ही ख़ुदा को, मुसीबत में याद करता हूँ..
  - हवा की मौजो मे आज फिर गजब की नजाकत है, जरुर आज उसने मुझे दिल से याद किया होगा..
  - कभी तुम्हरी याद आती है तो कभी तुम्हारे ख्व़ाब आते है, मुझे सताने के सलीके तो तुम्हें बेहिसाब आते है..
  - कर कुछ मेरा भी इलाज ऐ हकीम-ए-मोहब्बत. जिस दिन याद आती है उसकी सोया नहीँ जाता..
  - कौन कहता है उसकी याद से बे-खबर हूँ मैं, मेरी आंखो से पूछ ले मेरी रात कैसे गुजरती है...!!
  - रख लो दिल में संभाल कर थोड़ी सी यादें हमारी, रह जाओगे जब तन्हा बहुत काम आयेंगे हम..!!
  - भूलना चाहो तो भी याद हमारी आएगी, दिल की गहराई मे हमारी तस्वीर बस जाएगी...!!
  - मगर जब एक बार किसी को दोस्त बना ले, तो उससे अपने दिल से दूर नहीं करते...!!
  - जहाँ भूली हुई यादें दामन थाम लें दिल का, वहां से अजनबी बन कर गुज़र जाना ही अच्छा है...!!
  - उसे मैं याद आता तो हूँ फुरसत के लम्हों मे फराज़, मगर ये हकीकत है, के उसे फुरसत नहीं मिलती..!!
  - तुम से बिछड कर भी तुम्हे भूलना आसान न था, तुम्ही को याद किया, तुमको भूलने के लिए..
  - न चाहकर भी मेरे लब पर ये फ़रियाद आ जाती है, ऐ चाँद सामने न आ किसी की याद आ जाती है..
  - खुलते ही आंख याद आ जाता हैं, चेहरा आप का. ये दिन की पहली ख़ुशी तो कमाल की होती है..
  - बड़ा मिठा नशा है तेरी याद का, वक़्त गुजरता गया और हम आदी होते गए..
  - ताउम्र बस एक ही सबक याद रखिये, दोस्ती और इबादत में नीयत साफ़ रखिये..
  - मेरे अहसानों का कर्ज़ तुम यूँ चुका देना, कभी याद करके अकेले में मुस्कुरा देना..
  - कर रहा था गम-ए-जहां का हिसाब, आज तुम याद बेहिसाब आये..
  - खर्च जितना भी करुं बढ़ती जाती है, ये यादे तेरी अजीब दौलत है..
  - आया ही था ख्याल के आँखें छलक पड़ी, आंसू तुम्हारी याद के कितने करीब थे..
  - निकाल दे दिल से ख्याल उसका, यादें किसी की तकदीर बदला नहीं करती..
  - होश में थे तो हुए हवाले, तेरी हसीन यादों के, इन दिनों चूर हूँ नशे में, तेरे उन झूठे वादों के..
  - नाराज़गी भी मोहब्बत की बुनियाद होती है, मुलाक़ात से भी प्यारी किसी की याद होती है..
  - जब चाहूँ तुम्हे मिल नहीं सकता, लेकिन जब चाहूँ तुम्हे याद कर सकता हूँ..
  - तेरी यादों के सिरहाने सिर रख के, आज फ़िर सोने चले है शब्बा ख़ैर..
  - सर्द मौसम में बहुत याद आते हैं, धुँध में लिपटे हुए वादे तेरे..
  - फ़िक्र ये थी कि शब-ए-हिज्र कटेगी कैसे, लुत्फ़ ये है कि हमें याद न आया कोई..!!
  - दिल की हर यादो में, मै सवारूँ तुझे, तू दिखे तो इन आँखो में उतारू तुझे, तेरे नाम को जुबा पर ऐसे सजाऊ❓सो जाऊ तो ख्वाबो मे बस पुकारू तुझे..
  - तेरी यादो से शुरू होती हैं मेरी सुबह, फिर कैसे कह दू, की मेरा दिन ख़राब हैं..
  - पहले तुम अब यादें तुम्हारी, आखिर दुश्मनी क्या है मुझसे तुम्हारी..
  - मिलने का दौर और बढ़ाइए मोहब्बत में, अब यादों से गुज़ारा नहीं होता..
  - वफ़ा का नाम लेने से हमें, एक बेवफा की याद आती है..
  - तुम्हारी याद में आँखों का रतजगा है, कोई ख़्वाब नया आए तो कैसे आए..
  - बेवफाई उसकी दिल से मिटा के आया हूँ, ख़त भी उसके पानी में बहा के आया हूँ..
  - आपकी नशीली यादों में डूबकर, हमने इश्क की गहराई को समझा, आप तो दे रहे थे धोखा और, हमने जानकर भी कभी आपको बेवफा न समझा..!!
  - कभी ग़म तो कभी तन्हाई मार गयी, कभी याद आ कर उनकी जुदाई मार गयी..!!
  - इश्क मुहब्बत क्या है❓मुझे नही मालूम❓बस तुम्हारी याद आती है, सीधी सी बात है..
  - सुना है बहुत बारिश है तुम्हारे शहर में, ज़्यादा भीगना मत. अगर धुल गयी सारी ग़लतफ़हमियाँ, तो बहुत याद आएँगे हम..
  - कोई पुछ रहा है मुझसे मेरी जीन्दगी की कीमंत, मुझे याद आ रहा है तेरा हल्के से मुस्कुराना..
  - कुछ और भी तुम को आता है क्या❓जब देखो याद आते हो..
  - काश दिल की आवाज़ मै इतना असर हो जाये, हम याद करें,और उनको खबर हो जाये..
  - इस बरसात में हम भीग जायेंगे, दिल में तमन्ना के फूल खिल जायेंगे, अगर दिल करे मिलने को तो याद करना बरसात बनकर बरस जायेंगे..
  - पता नही ऐसा क्या है इस बारिश, मे जितनी ज़्यादा बरस रही है, उतना ही तुम याद आ रहे हो..
  - मुझे भी सिखा दो, भूल जाने का फितरत, मैं थक गयी हूँ, तुझे याद करते करते..
  - काश उनको कभी फुर्सत में ये ख्याल आए, कि कोई याद करता है, उन्हें जिन्दगी समझ कर..
  - दिन भर तड़पती रही तेरी यादों के साथ, किसी ने पूछा तो कहा तबीयत ठीक नहीं..
  - मिला तो बहुत कुछ है इस जिंदगी से, मगर याद बहुत आते है वो जिनको हासिल ना कर सके..
  - हजूम ए दोस्तों से जब कभी फुर्सत मिले. अगर समझो मुनासिब तो हमें भी याद कर लेना अहमद फ़राज़..
  - दोस्ती अपनी भी असर रखती है “‘फ़राज़”बहुत याद आएँगे ज़रा भूल कर तो देखो..
  - वो ज़माना भी तुम्हें याद है तुम कहते थे, दोस्त दुनिया में नहीं “दाग” से बेहतर अपना..
  - दोस्त को दोस्त का इशारा याद रहता है, हर दोस्त को अपना दोस्ताना याद रहता है, कुछ पल सच्चे दोस्त के साथ तो गुजारो, वो अफ़साना मौत तक याद रहता है..
  - तेरी यादें भी मेरे बचपन के खिलौने जैसी हैं, तन्हा होता हूँ तो इन्हें लेकर बैठ जाता हूँ..
  - उसकी धड़कन में मेरी याद अभी बाकी है, ये हकीकत मेरे जीने के लिए काफी है..
  - मोहब्बत की महफ़िल में आज मेरा ज़िक्र है, अभी तक याद हूँ उसको खुदा का शुक्र है..
  - महफिल मैं कुछ तो सुनाना पडता है, ग़म छुपाकर मुस्कुराना पडता है, कभी उनके हम भी थे दोस्त, आज कल उन्हे याद दिलाना पडता है..
  - बरसों हुए न तुम ने किया भूल कर भी याद, वादे की तरह हम भी फ़रामोश हो गए..
  - जरूरी तो नही है कि तुझे आँखों से ही देखूँ, तेरी याद का आना भी तेरे दीदार से कम नही..
  - वफ़ा का नाम मत लो यारों. याद आती हैं वो बेवफा तो दिल दुखता है..
  - तुम मेरे पास थे हो और रहोगी, ख़ुदा का शुक्र है यादों की कोई उम्र नहीं होती..
  - खुदा भी आखिर पूछेगा मुजसे. मुझे पांच वक़्त और उसे हर वक़्त क्यों याद करता था ?..
  - न तेरी याद, न तसव्वुर, न तेरा ख़याल, लेकिन खुदा क़सम, तुझे भूले नहीं है हम..
  - मंजर भी बेनूर थे और फिजायें भी बेरंग थी, बस तुम याद आए और मौसम सुहाना हो गया..
  - याद करने के सिवा तुझे कर भी क्या सकते हैं, भूल जाने में तुझे नाकाम हो जाने के बाद..
  - होती है बड़ी ज़ालिम एक तरफ़ा मोहब्बत, वो याद तो आते हैं मगर याद नहीं करते..
  - ये रात ये तनहाई और ये तेरी याद, मैं इश्क न करता तो कब का सो गया होता..
  - पहलू में रह के दिल ने दिया बड़ा फरेब, रखा है उसको याद, भुलाने के बाद भी..